झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान|| dehati geet mala lyrics

झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान

झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान
जामे जीवन सफल हो जाए

वृन्दावन जमना के किनारे ,मोहन जरा तु आ जाना
जमना जल और रेता पानी ,ऊंची भीत लगा जाना
लता पता का बंगला छवाईयो ,मोहन जरा तु आ जाना
शेषनाग दरवाजे लिख दो ,खिड़की पे लिख दो राधेश्याम
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान
जामे सारा बुढ़ापा कट जाए

इस बंगले के अंदर मोहन ,छोटा-सा आला होवे
राधा कृष्ण इसमें बैठे ,संग में सब सखियां होवे
बांके बिहारी करूं आरती ,पल पल दर्शन होए
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान

चम्पा मोगरे के फूल खिले हो ,छोटी सी बगिया होवे
चुन चुन कलियां हार पिरोऊ ,जब इच्छा पूरी हो वे
राधा कृष्ण हार जो पहने ,जीवन सफल हो जाए
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान

इस बंगले के अंदर मोहन ,साधु संत सेवा होवे
कथा कीर्तन हो बंगले में ,जब इच्छा पूरी हो वे
मालपुआ और हलवा पूरी , जब इच्छा पूरी हो वे
भर भर डोना सब को ,बाटू जब इच्छा पूरी हो वे
भगत और भगवान जिमते, जूठन हमें मिल जाए
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान

अषाढ़ महिना ज़ोर से बरसे ,मोहन जरा तु आ जाना
सावन महिना  रक्षा बंधन, भगतो से राखी  बंधा जाना
भादों में तेरी सालगिरह है ,मोहन टीका करा जाना
क्वार मास की सरद पूनो को ,बंगले में रास रचाया
झोपड़ियां मेरी एसी छवाइयो भगवान
मड़ैया मेरी एसी छवाइयो भगवान