Rang Mahal ke beech jaccha rani so rahi hai lyrics रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

LYRICS 


रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं
सासु आवे देवता मनावे देवता मनाई वह नेग मांगे
बेटा तुम्हारा सासु पोता तुम्हारा मैं हूं कुल की बहू
की बेल करा  जाइओ रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

जिठनी आवे पलंगा बिछावे
पलंगा बिछाई वो नेग मांगे
मेरा तुम्हारा  जिजी अपने और बदला
होंगे तुम्हारे नंदलाल पलंगा बिछा दूंगी
रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

नन्दी आवे काजल लगावे
काजल लगाई वो नेग  मांगे
भैया तुम्हारा भतीजा तुम्हारा
जाओगी तुम ससुराल तो भैया भिजवा दूंगी
रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

देवर आवे बंसी बजावे
बंसी बजाई वो नेग मांगे
मेरा तुम्हारा देवर अदला और बदला
होगा तुम्हारा जब ब्याह तो काजल लगा दूंगी
रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

सखियां आवे सोहर  गावे
सोहर गवाई वो लड्डू मांगे
मेरा तुम्हारा सखियो अदला और बदला
होंगे तुम्हारे जब लाल तो सोहर गवा दूंगी
रंग महल के बीच जच्चा रानी सो रही हैं

Post a Comment

0 Comments