Mai Bone Ko Bhya Di Ji Lyrics hansi mazak geet lyrics

LYRICS 



दिल्ली शहर मेरी सास के 9 -1O  बेटा
मै बोने के बियाह  दीजी  
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी
दिल्ली शहर में लगी बजरिया 
बोना ए बेचन चाली  जी  
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी

लड्डू पेड़ा सब कोई ले ले 
बोना कोई न लेवे जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी
एक दिन में गई खेत को  
बोना पीछा चलो जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी

पीपर ते मैंने बंधे री  
बोना खूब ही मार लगाई जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी
पीछा फिर के देखन लागि  
पीपर ले के आरओ जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी

एक दिना मै  गई गौत कू
बोना पीछा लागो  जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी 
12  हाथ का धरो बिटोरा 
वामे बोना मूंदो  जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी
12 साल पीछे खोलो बिटोरा 
बोना सैन  चलावे  जी
हांजी हम्बे जी जगत सुनेगा जी

Post a Comment

0 Comments