Saas Me Padhi Likhi Naari Na Khet Kaatne Jaau Lyrics || bhajan lyrics in hindi

LYRICS



सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं
ना खेत काटने जाऊं
ना खेत काटने जाऊं
सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं

छोलू ईख लगे मेरे काटी
इब ना बैरण चले दराती
अरे मैं तो छोड़ छोड़ हारी
ना खेत काटने जाऊं
सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं

ना तेरे घर में गैस रसोई
लंका खींच खींच में रोई
पसुरिया दुखे मेरी सारी
ना खेत काटने जाऊं
सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं

ताने मारे सखी सहेली
पढ़ी लिखी मैं नार नवेली
सांस मेरी कैसी लाचारी
ना खेत काटने जाऊं
सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं

ना मानूंगी मैं विक्रम की
गैल रहूंगी मैं पूर्ण की
अरे vo  तो नौकर सरकारी
ना खेत काटने जाऊं
सांस में पढ़ी लिखी नारी
ना खेत काटने जाऊं

Post a Comment

0 Comments