आनंद के लुटे खजाने LYRICS IN HINDI

आनंद के लुटे खजाने aanand ke lute khajane satguru ke darbar me lyrics 




LYRICS 

आनंद के लुटे खजाने 
भाई सतगुरु के दरबार में 
सतगुरु के दरबार में 
भाई संतो के दरबार में 
आनंद के लुटे खजाने 
भाई सतगुरु के दरबार में 

धन में सुख ढूंढन वालो 
भई धनवानों से पूछो 
धन में सुख ढूंढन वालो 
तुम धनवानों से पूछो 
उन्हें चैन नहीं मिलता है 
पल भर भी वार त्यौहार में 
उन्हें चैन नहीं मिलता है 
पल भर भी वार त्यौहार में 
आनंद के लुटे खजाने 
भाई सतगुरु के दरबार में 

कोठी बंगा मोटरगाड़ी 
कमी नहीं जिसके पास में 
उन्हें चैन नहीं मिलता है 
पल भर भी कारोबार में 
उन्हें चैन नहीं मिलता है 
पल भर भी कारोबार में 
आनंद के लुटे खजाने 
भाई सतगुरु के दरबार में 

चाचा ताऊ भाई बंधू 
बोहत बड़ा परिवार है 
वो देखे रोज़ कचेहरी 
आपस की तक़रार में 
वो देखे रोज़ कचेहरी 
आपस की तक़रार में 
आनंद के लुटे खजाने 
भाई सतगुरु के दरबार में 














Post a Comment

0 Comments