अंखियाँ हरि दरसन की प्यासी krishna bhajan lyrics in hindi Akhiya Hari Darshan Ki Pyasi - Hari / Krishna Bhajan hindi lyrics

In this post i'll give you the krishna bhajan lyrics in hindi bhajan is ankhiya hari darshan ki pyasi 
if you like krishna bhajan lyrics in hindi then please do share this post 

Akhiya Hari Darshan Ki Pyasi
Lyrics: अंखियाँ हरि दरसन की प्यासी

देख्यौ चाहति कमलनैन कौ,
निसि-दिन रहति उदासी।।
आए ऊधै फिरि गए आँगन,
डारि गए गर फांसी।
केसरि तिलक मोतिन की माला,
वृन्दावन के बासी।।
काहू के मन को कोउ न जानत,
लोगन के मन हांसी।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कौ,
करवत लैहौं कासी।।

Post a Comment

0 Comments