माखन दूंगी रे कन्हैया जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे BHAJAN LYRICS


LYRICS OF MAKHAN DUNGI RE 


माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे
बंसी तो बजा मीठी धुन तो सुना माखन दूंगी रे
माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे

ऐसी तो बजा जैसे जमुना तट पर बाजी रे 
बहता नीर तुरंत थम जाए माखन दूंगी रे
माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे 
बंसी तो बजा मीठी धुन तो सुना
माखन दूंगी रे

ऐसी तो बाजा जैसी बंसीवट पर बाजी थी 
संघ की सहेली मगन हो जाएं 
माखन दूंगी रे 
माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे 
बंसी तो बजा मीठी धुन तो सुना
माखन दूंगी रे

ऐसी तो बाजा जैसी मधुबन में बाजी रे 
हरी हरी धरती मगन हो जाए माखन दूंगी रे
माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे 
बंसी तो बजा मीठी धुन तो सुना
माखन दूंगी रे

ऐसी तो बाजा जैसी वृन्दावन  में बाजी रे 
मुरली की धुन सुन मन रम जाये 
माखन दूंगी रे कन्हैया 
जरा बंसी तो बजा माखन दूंगी रे 
बंसी तो बजा मीठी धुन तो सुना
माखन दूंगी रे

Post a Comment

0 Comments