Sita ke raam rakhwale the jab haran hua tab koi nahi


RAM BHAJAN LYRIC IN HINDI

सीता के राम रखवाले थे जब हरण हुआ तब कोई नहीं जब हरण हुआ तब कोई नहीं जब सिया चुरी तब कोई नहीं

 सीता के राम रखवाले थे 

द्रोपति के पांचो पांडव थे हुआ चीरहरण तब कोई नहीं दशरथ के चार दुलारे थे जब प्राण तजे तब कोई नहीं
सीता के राम रखवाले थे जब हरण हुआ तब कोई नहीं
रावण भी बड़े बलशाली थे जब लंका जली तब कोई नहीं श्री कृष्ण सुदर्शन धारी थे
जब तीर चुभा तब कोई नहीं सीता के राम रखवाले थे जब हरण हुआ तब कोई नहीं
लक्ष्मण भी भारी योद्धा थे जब शक्ति लगी तब कोई नहीं सरसैया पड़े पितामह थे
पीड़ा का साथी कोई नहीं सीता के राम रखवाले थे जब हरण हुआ तब कोई नहीं
अभिमन्यु राज दुलारे थे फसे चक्रव्यू मैं तब कोई नहीं सच है यह सुनो दुनिया वालो संसार में अपना कोई नहीं सीता के राम

Post a Comment

0 Comments