Ganga nah ke paap kate na bhajan lyrics

Ganga nah ke paap kate na chahe gote maar hazaar kusum chauhan bhajan lyrics 



Ganga nah ke paap kate na chahe gote maar hazaar kusum chauhan bhajan lyrics 


गंगा नाह  के पाप कटे ना

चाहे गोते मारो हजार

अरे कोई कर्म चुके ना 

सब देख रहा रे करतार


जगते तो बच जाएगा बंदे 

पर मालिक देख रहा है

अरे अच्छे बुरे कर्म हो सारे 

तेरे लिख लिख टेक   रहा है

सारे कर्म तेरे सामने होंगे 

जब जाएगा हरि के द्वार है

गंगा नाह  के पाप कटे ना

चाहे गोते मारो हजार


कोई कर्म चुके ना सब देख रहा करतार

झूठ कपट तो भरा है मन में

तू मुख से राम है रटता

यह करने से मूर्ख प्राणी 

तेरा कोई पाप ना घटता 

साफ तेरा जो दिल ना होगा 

तेरा होगा ना उद्धार 

गंगा नाह  के पाप कटे ना

चाहे गोते मारो हजार


रे कोई कर्म कर चुके ना 

सब देख रहा करतार

तुझको वही मिलेगा बंदे

जो औरों को बाटेगा

जैसा बीज तू बोवे बंदे तू फसल वही काटेगा

सच की नैया पार उतर जा

जा डूब झूठ मझदार 

रे कोई कर्म चुके ना

सब देख रहा रे करतार

गंगा नाह  के पाप कटे ना

चाहे गोते मारो हजार


झूठ कपट को त्याग बावले 

बस हरी में ध्यान लगा ले

गुरु ज्ञान तू लेकर बंदे जीवन को सफल बना ले

यहां आज मेरी मानव का या मिलती ना बारंबार

गंगा नाह  के पाप कटे ना

चाहे गोते मारो हजार


click here to get more 

kusum chauhan bhajan lyrics