Jagat me koi na permanent lyrics

जगत में कोई ना परमानेंट  lyrics 





जगत में कोई ना परमानेंट 

तेल चमेली चंदन साबुन चाहे लगा लो सेंट


आबा गवन लगी दुनिया में 

जगत है रेस्टोरेंट रे भैया जगत है रेस्टोरेंट

अंत समय में उड़ जायेंगे

तेरे तम्बू टेंट


जगत में कोई ना परमानेंट 

तेल चमेली चंदन साबुन चाहे लगा लो सेंट


हरिद्वार चाहे मथुरा काशी चाहे दिल्ली केंट रे भैया चाहे दिल्ली केंट

मन मेरा तो नाम प्रभु का धोती पहरो या पेंट