JHOPADIYA MERI ESI BANAIYO NANDLAAL KRISHNA BHAJAN LYRICS



JHOPADIYA MERI ESI BANAIYO NANDLAAL 


बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 

वृन्दावन में कुञ्ज गली में 
गोकुल कदमो के निचे 
वृन्दावन में दया करना तुम 
मोहन बीच धराचार में 
दरवाजे पे मोहन लिखियो 
राधा लिखियो किवाड़ 
बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 

बंगले के द्वारे पे मोहन 
छोटा सा एक आला हो 
राधा मोहन हो बनगे में संतो की सेवा होव 
राधा मोहन की करू आरती 
नित उठ दर्शन होये 
बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 

बंगले के द्वारे पे मोहन 
तुलसी और केला होवे
बेला चमेली के फूल खिले हो 
और कदमो की छैया होवे 
हम सब सखिया मिल जुल कर के 
सूंदर हार बनाये 
बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 

अमास पूनो उस बंगले म 
कथा और कीर्तन होवे 
पूरी कचोरी का भोग लगे 
और माल पूए हलवा होवे 
भर भर डोना सबको बाटू
सब इच्छा पूरी होवे 
भक्त और भगवन भी खावे 
झूटन हमें मिल जाये 
बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 

असाड़ मेघा जोर से बरसे 
मोहन बंगले में छुपना 
सावन रक्षा बंधन आवे 
बंगले राखी बंधवाना 
भादो में हो सालगिरह 
तो बंगले में टिका करवाना 
कवार मॉस की शरद पूर्ण को 
मोहन रास रचा जाना
बंगलिया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 
जामे सारी उम्र कट जाये
झोपड़िया मेरी ऐसी बनइयो नंदलाल 


Post a Comment

0 Comments