Nirgun bhajan lyrics in hindi mukh accha nahi lagta bhajan bina

Mukh accha nahi lagta bhajan bina shandar nirgun bhajan 


मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 

मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 

भजन बिना भगवान बिना 

मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 


चाहे कितनी बिंदिया लगा लो 

शीश अच्छा नहीं लगता झुके बिना 

मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 


चाहे कितने ही सुरमे सा लो 

चाहे कितने ही चश्मे लगा लो 

नैन अच्छे नहीं लगते दरश बिना 

भजन बिना भगवान बिना 

मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 


चाहे कितने होठ रंगा लो 

चाहे कितनी मिठाई खा लो 

चाहे कितने गोल गप्पे खा लो 

मुख अच्छा नहीं लगता राम राम बिना 


चाहे कितने ही चुडिया पेहेन लो 

चाहे कितने ही कंगन पेहेन लो 

हाथ अच्छे नहीं लगते दान बिना 


चाहे कितनी ही पायल पहनो 

चाहे कितने ही सैंडल पहनो 

पैर अच्छे नहीं लगते तीरथ बिना 


चाहे कितनी ही साडी पहनो 

चाहे डबल बीएड पर सो लो 

काया अच्छी नहीं लगती सेवा बिना 


चाहे कितने ही बेटे जन लो 

जन जन के राजी हो लो 

सेवा एक नहीं करता करम बिना 

मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 


चाहे कितने ही दान लुटा लो 

दान एक नहीं लगता कन्या बिना 

चाहे कितने ही धन को जोड़ लो 

जोड़ जोड़ के अलमारी भर लो 

पायी साथ नहीं चलती नाम बिना 


मुख अच्छा नहीं लगता भजन बिना 


Click here to more nirgun bhajan