ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे bhajan lyrics

Zindgaani bhajan bin lut gayi re bhajan lyrics in hindi lut gayi lut gayi lut gayi re zindgani bhajan bin lut gayi re 



LYRICS 

लुट गयी लुट गयी लुट गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे

एक दिन सोचा था व्रत करुँगी 
में तो हलवा पूरी खा गयी रे 
में तो पिज़्ज़ा चौमिन खा गयी रे
लुट गयी लुट गयी लुट गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे 

एक दिन सोचा था सत्संग सुनूंगी 
में तो ओढ़ रजाई सो गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे
लुट गयी लुट गयी लुट गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे

एक दिन सोचा था कीर्तन करुँगी 
में तो चुगली चोपती में फास गयी रे 
में तोतरि मेरी में फस गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे
लुट गयी लुट गयी लुट गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे

एक दिन सोचा था तीरथ करुँगी  
में तो मूल और ब्याजों में फस गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे
लुट गयी लुट गयी लुट गयी रे 
ज़िंदगानी भजन बिन लुट गयी गयी रे

Post a Comment

0 Comments